Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

” तुम से नज़र मिलीं “

तुम से नज़र मिली….
बाग में कलियां खिलीं……
रंग बदलने लगा आकाश सुनहरा……
श्रंगार करने लगी वसुंधरा……
चमकने लगें पीपल के पत्ते……
सजे है मँजिल से खूबसूरत रस्ते……

तुम से नज़र मिली……
शब्दों ने अपनी जुबां सिली……
बोलने लगी खामोशी……
मौसम में भी छाने लगी मदहोशी……
होने लगी दिल की बातें……
करने लगी यादें मुलाकातें……

तुम से नज़र मिली……
बाग में कलियां खिलीं……
खिल उठा हो जैसे बचपन मेरा……
लगने लगा सारा जहान मेरा……
पलकों पर तुम्हें सजाना है……
काजल नही आँखों में तुम्हें बसाना है……

तुम से नज़र मिली….
आँखें ये हो गयी गीली….
जागने लगी रातें….
प्यारे वो पल सतातें….
अंनत प्रेम है तुम से, इसमें मेरी ख़ता नही….
किताबों में छूपाने लगी हूँ आँसू है या स्याही पता नही….

तुम से नज़र मिली……
खुद को भी मैं भुली……
बस गये ध्यान में तुम……
बन गये प्राण तुम…..
आ गयीं हो जैसे पत्थरों में जान……
बन गये तुम मेरी प्राथना और भगवान…..

लेखिका- आरती सिरसाट
बुरहानपुर मध्यप्रदेश
मौलिक एवं स्वरचित रचना

Language: Hindi
1 Like · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"डगर"
Dr. Kishan tandon kranti
जल
जल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
*नवाब रजा अली खॉं ने श्रीमद्भागवत पुराण की पांडुलिपि से रामप
*नवाब रजा अली खॉं ने श्रीमद्भागवत पुराण की पांडुलिपि से रामप
Ravi Prakash
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
Bramhastra sahityapedia
हर खतरे से पुत्र को,
हर खतरे से पुत्र को,
sushil sarna
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
तक़दीर शून्य का जखीरा है
तक़दीर शून्य का जखीरा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
कविता
कविता
Shiv yadav
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
यूँही चलते है कदम बेहिसाब
Vaishaligoel
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
कवि मोशाय।
कवि मोशाय।
Neelam Sharma
Loading...