Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2016 · 1 min read

तुम मेरी सखी हो

तुम मेरी सखी हो

सखी हो या सनेही
तुम जो भी हो
मेरी छाया हो
क्योंकि
तुम मेरी सखी हो

मेरे सोते जागते
उठते बैठते
साथ मेरे रहती हो
क्योंकि
तुम मेरी सखी हो

मेरे अनतरंग के साथी
सुख दुख के सारथी
तुम मेरी प्रतिमूर्ति
क्योंकि
तुम मेरी सखी हो

दुख दरद का व्यापार
सब तेरे ही हाथ
शान्त सुकोमल कल्पना
क्योंकि
तुम मेरी सखी हो

मेरे अध अंग की सारथी
दुखद भावों की हारणी
हृदय मंदिर की बासिनी
क्योंकि
तुम मेरी सखी हो

मेरी प्रिया से गुरुतर तुम
बिन माँगे दे देती
मित्रता की तुम आन
क्योंकि
तुम मेरी सखी हो

Language: Hindi
72 Likes · 1399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
“निर्जीव हम बनल छी”
“निर्जीव हम बनल छी”
DrLakshman Jha Parimal
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
यादों की परछाइयां
यादों की परछाइयां
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
पहचान
पहचान
Dr.S.P. Gautam
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नारी
नारी
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
*शुभ गणतंत्र दिवस कहलाता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
लाला अमरनाथ
लाला अमरनाथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
2710.*पूर्णिका*
2710.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
Loading...