Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।

तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।

नील गगन के सूरज तुम,
मैं उगते सूरज की लाली हूं ,
अथाह सागर से गहरे तुम,
और मैं सागर की “सीमा” हूं।

तुम पुष्प यदि जो बन जाओ,
मैं सुगंध तुम्हारी बन जाऊं।
श्यामल आकाश से विस्तृत तुम ,
मैं चंद्र सुसज्जित मुस्काऊं।

पर्वत से विराट तुमसे मैं
सरिता बन निः सृत हो जाऊं
सूरज के प्रकाश से दमको तुम
किरण रेख सी चमकूं मैं।

तुम सघन मेघ जो बन जाओ
मैं चंचल चपला बन इतराऊं
तारों के झुरमुट में तुम छिप जाओ
और मैं आकाश गंग में बह जाऊं।

विशाल वट से स्थिर वृक्ष तुम
मैं बनकर लता लिपट जाऊं
चित्रित प्रतिबिंबित तुम मन दर्पण में
मैं स्वयं दर्पण ही बन जाऊं।

दैदीप्यमान तुम परमात्म अंश में,
मैं अंश के अंश में रम जाऊं।
एकाकार मैं हुई संग तुम्हारे
हर पल श्रृंगार मैं करती जाऊं।

©डॉ सीमा

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Seema Varma
View all
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
ख़बर है आपकी ‘प्रीतम’ मुहब्बत है उसे तुमसे
आर.एस. 'प्रीतम'
3130.*पूर्णिका*
3130.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नज़र में मेरी तुम
नज़र में मेरी तुम
Dr fauzia Naseem shad
अपनी यही चाहत है_
अपनी यही चाहत है_
Rajesh vyas
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30  न
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30 न
Shashi kala vyas
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तुम्हें प्यार करते हैं
तुम्हें प्यार करते हैं
Mukesh Kumar Sonkar
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
"आपदा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
ruby kumari
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
तुमसे मोहब्बत हमको नहीं क्यों
तुमसे मोहब्बत हमको नहीं क्यों
gurudeenverma198
Loading...