Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

★भारतीय किसान★

तुम जब आओगे तो खेतों में पाओगे मुझे ।
मेरे खेतों में फसल के सिवा कुछ भी नहीं।
और मेरे घर को सजाने की तमन्ना है तुम्हें।
हाय मेरे घर में कुदालों के सिवा कुछ भी नहीं ।
किसान मौसम फसल अनाज ये रिश्ता है कमल इस रिश्ते के बिना ये जग भी नहीं।। ★ IPS KAMAL THAKUR★

1 Like · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पत्थर तोड़ती औरत!
पत्थर तोड़ती औरत!
कविता झा ‘गीत’
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
अगर प्यार तुम हमसे करोगे
अगर प्यार तुम हमसे करोगे
gurudeenverma198
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
" कृषक की व्यथा "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
Rituraj shivem verma
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
जिंदगी में अपने मैं होकर चिंतामुक्त मौज करता हूं।
Rj Anand Prajapati
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
Manoj Mahato
*पतंग (बाल कविता)*
*पतंग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
चक्षु सजल दृगंब से अंतः स्थल के घाव से
Er.Navaneet R Shandily
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
जिंदगी एडजस्टमेंट से ही चलती है / Vishnu Nagar
Dr MusafiR BaithA
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
Why am I getting so perplexed ?
Why am I getting so perplexed ?
Sukoon
जी-२० शिखर सम्मेलन
जी-२० शिखर सम्मेलन
surenderpal vaidya
"जरा सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...