Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

तुम ग़ज़ल शायरी //ग़ज़ल //

तुम सुबह शाम की ईबादत हो
मेरी पहली,आखिरी मोहब्बत हो

कोई नहीं जहां में यारा तुम सा
सच में तुम इतनी खूबसूरत हो

तुम्हें पाके क्या माँगू क्या चाहूँ
तुम मेरा साया,रब की मूरत हो

तुम हो तो मैं हूँ,तुम नहीं तो मैं नहीं
तुम मेरी जाँ तुम मेरी अमानत हो

तुमसे ही पहचान तुमसे ही मेरी दुनिया
तुम ग़ज़ल,शायरी दिल की जरूरत हो

कवि:-दुष्यंत कुमार पटेल “चित्रांश”

2 Comments · 852 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
समय ⏳🕛⏱️
समय ⏳🕛⏱️
डॉ० रोहित कौशिक
दरिया का किनारा हूं,
दरिया का किनारा हूं,
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक-463💐
💐प्रेम कौतुक-463💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीवारों में दीवारे न देख
दीवारों में दीवारे न देख
Dr. Sunita Singh
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
काव्य
काव्य
साहित्य गौरव
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
'अशांत' शेखर
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
शाम
शाम
Kanchan Khanna
#बैठे_ठाले
#बैठे_ठाले
*Author प्रणय प्रभात*
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
वो तीर ए नजर दिल को लगी
वो तीर ए नजर दिल को लगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो,हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
जाना जग से कब भला , पाया कोई रोक (कुंडलिया)*
जाना जग से कब भला , पाया कोई रोक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नींद में गहरी सोए हैं
नींद में गहरी सोए हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
Dr Tabassum Jahan
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
"अतीत"
Dr. Kishan tandon kranti
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
कब जुड़ता है टूट कर,
कब जुड़ता है टूट कर,
sushil sarna
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
Loading...