Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2022 · 1 min read

तुम किसके लिए हो?

मज़दूर के लिए तो
हरगिज़ नहीं!
किसान के लिए तो
हरगिज़ नहीं!!
विद्यार्थी के लिए तो
हरगिज़ नहीं!
जवान के लिए तो
हरगिज़ नहीं!!
हमें समझ में नहीं
आता है कि
तुम किसके लिए हो
आख़िर यहां?
बुद्धिजीवी के लिए तो
हरगिज़ नहीं!
अवाम के लिए तो
हरगिज़ नहीं!!
Shekhar Chandra Mitra
#police #SupremeCourt
#media #अफ़सर #सांसद
#bollywood #celebrities
#ElectionCommission #CBI

Language: Hindi
171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
3291.*पूर्णिका*
3291.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
उम्र का एक
उम्र का एक
Santosh Shrivastava
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
वसन्त का स्वागत है vasant kaa swagat hai
वसन्त का स्वागत है vasant kaa swagat hai
Mohan Pandey
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
कर लो कभी
कर लो कभी
Sunil Maheshwari
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
संजय कुमार संजू
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
Shriyansh Gupta
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
याद में
याद में
sushil sarna
नम आंखे बचपन खोए
नम आंखे बचपन खोए
Neeraj Mishra " नीर "
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
तुम पतझड़ सावन पिया,
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
Loading...