Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

तुम कहना और मैं सुनूंगा।

हो दिल में जो बात कोई,
तुम कहना और मैं सुनूंगा,

हो बताना जो राज़ कोई,
तुम कहना और मैं सुनूंगा,

हो करनी जो शिकायत कोई,
तुम कहना और मैं सुनूंगा,

हो देनी जो हिदायत कोई,
तुम कहना और मैं सुनूंगा,

हो देनी जो दुआ कोई,
तुम कहना और मैं सुनूंगा,

हो छुपी जो सदा कोई,
तुम कहना और मैं सुनूंगा।

कवि-अंबर श्रीवास्तव।
सदा- आवाज़

Language: Hindi
340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
विचार
विचार
Godambari Negi
या खुदाया !! क्या मेरी आर्ज़ुएं ,
या खुदाया !! क्या मेरी आर्ज़ुएं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
मेघों का इंतजार है
मेघों का इंतजार है
VINOD CHAUHAN
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
दिल में
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
दादाजी ने कहा था
दादाजी ने कहा था
Shashi Mahajan
कितने अच्छे भाव है ना, करूणा, दया, समर्पण और साथ देना। पर जब
कितने अच्छे भाव है ना, करूणा, दया, समर्पण और साथ देना। पर जब
पूर्वार्थ
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
लोगो खामोश रहो
लोगो खामोश रहो
Surinder blackpen
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
दरवाजा खुला छोड़ा था की खुशियां आए ,खुशियां आई भी और साथ में
दरवाजा खुला छोड़ा था की खुशियां आए ,खुशियां आई भी और साथ में
Ashwini sharma
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
*बारात में पगड़ी बॅंधवाने का आनंद*
*बारात में पगड़ी बॅंधवाने का आनंद*
Ravi Prakash
अंतर
अंतर
Dr. Mahesh Kumawat
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात  ही क्या है,
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात ही क्या है,
Shreedhar
Loading...