Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

“तुम और मैं “

तुम शब्द बनकर झरा करो ,
मैं लेखनी बन मिटा करूँ,
नव सृजन के अंकुरों में ,
झांककर तुम तका करो ,
मृण्मयी हो कर मैं तुम्हे ,
अपने श्वांस से सिंचित करूँ ,
तुम साज़ बनकर बजा करो,
मैं गीत बनकर मिटा करूँ,
नवस्वरों के राग में ,
सुर बन कर फिरा करो ,
स्वर – लहरी हो मैं तुम्हें ,
अपने स्वरों से सज्जित करूँ |

……निधि……

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 432 Views
You may also like:
जिंदगी का आखिरी सफर
ओनिका सेतिया 'अनु '
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
✍️कुछ चेहरे..
'अशांत' शेखर
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# मां ...
Chinta netam " मन "
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
एउटा मधेशी ठिटो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
वृंदावन की यात्रा (लेख/यात्रा वृत्तांत)
Ravi Prakash
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
आप चेहरा बदल के मिलियेगा
Dr fauzia Naseem shad
मन की बात
Rashmi Sanjay
अवाम का बदला
Shekhar Chandra Mitra
थोड़ा हैं तो थोड़े की ज़रुरत हैं
Surabhi bharati
नूर
Alok Saxena
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
आंख ऊपर न उठी...
Shivkumar Bilagrami
:::: हवा ::::
MSW Sunil SainiCENA
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
*प्रणय प्रभात*
यह तस्वीर कुछ बोलता है
राकेश कुमार राठौर
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
"फौजियों की अधूरी कहानी"
Lohit Tamta
Loading...