Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

“तुम और मैं “

तुम शब्द बनकर झरा करो ,
मैं लेखनी बन मिटा करूँ,
नव सृजन के अंकुरों में ,
झांककर तुम तका करो ,
मृण्मयी हो कर मैं तुम्हे ,
अपने श्वांस से सिंचित करूँ ,
तुम साज़ बनकर बजा करो,
मैं गीत बनकर मिटा करूँ,
नवस्वरों के राग में ,
सुर बन कर फिरा करो ,
स्वर – लहरी हो मैं तुम्हें ,
अपने स्वरों से सज्जित करूँ |

……निधि……

Language: Hindi
4 Comments · 540 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
🤔🤔🤔समाज 🤔🤔🤔
Slok maurya "umang"
प्रश्न –उत्तर
प्रश्न –उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
पहली बैठक
पहली बैठक "पटना" में
*प्रणय प्रभात*
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
कविता
कविता
Shiva Awasthi
बुंदेली चौकड़िया-पानी
बुंदेली चौकड़िया-पानी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितना कुछ सहती है
कितना कुछ सहती है
Shweta Soni
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य असत्य से हारा नहीं है
सत्य असत्य से हारा नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
हुई बात तो बात से,
हुई बात तो बात से,
sushil sarna
Loading...