Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

तुम्हे

एक लम्तुहात गुजरने से पहले
इश्क के जज्बात मे पिघलने से पहले
न जाने ये ख्याल आया है ….
न तुम्हे पाया है न पाने का इरादा
पर तुझे खो न दूं ..डर सबसे ज्यादा है..

Language: Hindi
Tag: शेर
200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from NIRA Rani

You may also like:
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बदनाम होने के लिए
बदनाम होने के लिए
Shivkumar Bilagrami
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी, क्या है?
जिंदगी, क्या है?
bhandari lokesh
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
आस लगाए बैठे हैं कि कब उम्मीद का दामन भर जाए, कहने को दुनिया
Shashi kala vyas
मेरी आत्मा ईश्वर है
मेरी आत्मा ईश्वर है
Ms.Ankit Halke jha
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
*Author प्रणय प्रभात*
तुम मुझे दिल से
तुम मुझे दिल से
Dr fauzia Naseem shad
विनय
विनय
Kanchan Khanna
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मन की आँखें खोल
मन की आँखें खोल
Kaushal Kumar Pandey आस
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
Ram Krishan Rastogi
💐अज्ञात के प्रति-31💐
💐अज्ञात के प्रति-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहूं कैसे भोर है।
कहूं कैसे भोर है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
Anil chobisa
चुनावी जुमला
चुनावी जुमला
Shekhar Chandra Mitra
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
Loading...