Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 25, 2017 · 1 min read

तुम्हे

एक लम्तुहात गुजरने से पहले
इश्क के जज्बात मे पिघलने से पहले
न जाने ये ख्याल आया है ….
न तुम्हे पाया है न पाने का इरादा
पर तुझे खो न दूं ..डर सबसे ज्यादा है..

117 Views
You may also like:
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
ग़ज़ल
kamal purohit
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
हमारी जां।
Taj Mohammad
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
छोड़कर ना जाना कभी।
Taj Mohammad
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
सलाम
Shriyansh Gupta
कभी कभी।
Taj Mohammad
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बचपन की यादें।
Anamika Singh
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
Little baby !
Buddha Prakash
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Loading...