Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

तुम्हें जोहते बैठे रहे चौबारों में /ग़ज़ल/

तुम्हें जोहते बैठे रहे चौबारों में
देखने को मजबूर हुए ख्वाबों में

बेसुध मन बेखबर हो गए ज़माने से
जबसे जीने लगे तेरी इन वफ़ाओं में

मेरी राधा रानी मिल कभी मधुबन में
आके लिपट जा आज सूनी बाहों में

न हो ओझल मेरी नज़रो से एकपल भी
आके बस जा तू आज मेरी निगाहों में

दौडी आ दौडी आ पुकारते मेरा नाम
चुनरी उड़ा, मेरे संग झूम नाच बहारोँ में

बन जा हमसफ़र बाँध ले प्रीत की डोरी
फूल बिछाउँगा तेरी ज़िंदगी की राहों में

कवि :-दुष्यंत कुमार पटेल “चित्रांश”

1 Comment · 257 Views
You may also like:
✍️रवीश जी के लिए...
'अशांत' शेखर
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
■ तेवरी / कक्का
*प्रणय प्रभात*
दुआ
Alok Saxena
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
चाँद और जुगनू
Abhishek prabal
जिसके दिल से निकाले गए
कवि दीपक बवेजा
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
आप का ही
Dr fauzia Naseem shad
बहुत कुछ कहना है
Ankita
देखिए भी किस कदर हालात मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मीडिया की जवाबदेही
Shekhar Chandra Mitra
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
आई लव यू / आई मिस यू
N.ksahu0007@writer
🍀🐦तुम्हारा हर हर्फ़ मलंग सा🐦🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी माँ
shabina. Naaz
छठ महापर्व
श्री रमण 'श्रीपद्'
'हे सबले!'
Godambari Negi
भूल
Seema 'Tu hai na'
“कलम”
Gaurav Sharma
I am a book
Buddha Prakash
“ जालंधर केंट टू अमृतसर ” ( यात्रा संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
*रिपोर्ट* / *आर्य समाज में गूॅंजी श्रीकृष्ण की गीता*
Ravi Prakash
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
जख्म
Anamika Singh
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ग़ज़ल
Anis Shah
Loading...