Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

तुम्हीं हो

दशरथ और संपूर्ण रघुकुल का, झिलमिलाता चिराग तुम्हीं हो।
रक्षक-स्वामी, हो अंतर्यामी, सिया प्रीत का मधुर राग तुम्हीं हो।
धर्म-कर्म या फिर चाहे मर्म, हर कसौटी का परित्याग तुम्हीं हो।
जिसमें सुगन्धित पुष्प खिलते हैं, ऐसा हरा-भरा बाग़ तुम्हीं हो।

पिता दशरथ की विवशता हो, माॅं कौशल्या की धीर तुम्हीं हो।
हर अयोध्यावासी के मन की, शान्त और गहरी पीर तुम्हीं हो।
बालपन में ताड़का मारी, गुरु विश्वामित्र के परमवीर तुम्हीं हो।
रण में जीत का परचम लहराया, ढाल और शमशीर तुम्हीं हो।

सदा वचन के प्रति रहो आबद्ध, ऐसा निष्ठावान मित्र तुम्हीं हो।
जिसमें समस्त भाव रंग उकेरें, ऐसा मनमोहक चित्र तुम्हीं हो।
जिसके निर्देशों पे सृष्टि डोले, वो जग संचालक तंत्र तुम्हीं हो।
जो मानव को भाव पार उतारे, ऐसा शाश्वत गुरुमंत्र तुम्हीं हो।

विचलन करते हुए संसार में, आकांक्षाओं का विश्राम तुम्हीं हो।
सारा विश्व जिनकी पूजा में लीन, आस्था के चारधाम तुम्हीं हो।
जो आज जग-जाहिर हो गया है, धर्म का पुण्य काम तुम्हीं हो।
कलयुग में हो जिनका चर्चा, त्रेता युग के प्रभु श्रीराम तुम्हीं हो।

Language: Hindi
4 Likes · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
Suryakant Dwivedi
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खजुराहो
खजुराहो
Paramita Sarangi
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
उनको असफलता अधिक हाथ लगती है जो सफलता प्राप्त करने के लिए सह
उनको असफलता अधिक हाथ लगती है जो सफलता प्राप्त करने के लिए सह
Rj Anand Prajapati
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
Shweta Soni
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
2500.पूर्णिका
2500.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नयी शुरूआत
नयी शुरूआत
Dr fauzia Naseem shad
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मोर
मोर
Manu Vashistha
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
जो संस्कार अपने क़ानून तोड़ देते है,
जो संस्कार अपने क़ानून तोड़ देते है,
शेखर सिंह
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
Loading...