Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Apr 2023 · 1 min read

तुम्हारी वजह से

है खूबसूरत ये समां
तुम्हारी वजह से
हसीन है मेरा जहां
तुम्हारी वजह से

हूं मैं जो कुछ भी
हूं तुम्हारी वजह से
बेफिक्र रहता हूं मैं
तुम्हारी वजह से

है हौसला मुझमें
तुम्हारी वजह से
खुश रहता हूं मैं
तुम्हारी वजह से

है मेरे जीवन में रोशनी
तुम्हारी वजह से
जीत पाया हूँ अंधेरे को
तुम्हारी वजह से

देखे थे सपने मैंने
तुम्हारी वजह से
हो रहे साकार वो
तुम्हारी वजह से

मां के चेहरे की रौनक़ है
तुम्हारी वजह से
है बहन की मुस्कान भी
तुम्हारी वजह से

सूरज की चमक है
तुम्हारी वजह से
है वजूद भी परिवार का
पापा, तुम्हारी वजह से।

11 Likes · 2 Comments · 3108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
बच्चें और गर्मी के मज़े
बच्चें और गर्मी के मज़े
कुमार
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
Ravi Prakash
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
आयेगी मौत जब
आयेगी मौत जब
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
you don’t need a certain number of friends, you just need a
you don’t need a certain number of friends, you just need a
पूर्वार्थ
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
हम
हम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
***
***
sushil sarna
#शब्द_सुमन
#शब्द_सुमन
*प्रणय प्रभात*
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
**कविता: आम आदमी की कहानी**
**कविता: आम आदमी की कहानी**
Dr Mukesh 'Aseemit'
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
सम्बन्ध
सम्बन्ध
Shaily
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
Loading...