Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 6, 2016 · 1 min read

तुम्हारा पहला.. कभी पैग़ाम ही आये…….

ग़ज़ल
==========================
किस्सा ओ कहानी ; मिरा क़लाम ही जाये
तस्वीरें बनें ;वो मुक़म्मल शाम ही आये

दीवाली मुबारक ; तुम्हें हम सब देते हैं
तुम्हारा पहला.. कभी पैग़ाम ही आये

तन्हा ‘ शब ‘ रवानी ‘ जुदाई ‘तड़पन’ रोना
क्या ही गज़ब हो .साथ अगर तमाम ही आये

वक़्त फिर से बदल जाये वादे फिर करे हमतुम
दुल्हन तुम ; दूल्हा मैं बनूँ ; आराम ही आये

इन्सां का वज़ूद ”बंटी ‘ अब उलट कर देखे
फलक ज़मीं सभी ज़गह अल्लाह राम ही आये

===============================
bunty singh

219 Views
You may also like:
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Security Guard
Buddha Prakash
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
रफ्तार
Anamika Singh
पिता
Aruna Dogra Sharma
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
बंदर भैया
Buddha Prakash
पिता
Deepali Kalra
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आओ तुम
sangeeta beniwal
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
Loading...