Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा

हर भ्रम तुम्हारा सुनो एक दिन मिटा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हें आईना दिखा देगा-तुम्हारा दिल
कौन अपना है कौन पराया आज मालूम नहीं
कल ये वक्त तुम्हें असलियत बता देगा-तुम्हारा दिल
दिया खुदा ने है जो उसी में है संतोष मुझको
लिखा नसीब में जो वही तो खुदा देगा-तुम्हारा दिल
इंसान बना हूॅ॑ आज मैं जहां की ठोकरें खाकर
नहीं कोई भी जो आज मुझे गिरा देगा-तुम्हारा दिल
मेरा तुम्हारा सुनो कोई रिश्ता है भी या नहीं
तेरा दिल धड़क कर ये तुझे सुना देगा-तुम्हारा दिल
चले जाएं हम कितने ही दूर तुम्हारी दुनिया से
वक्त किसी न किसी मोड़ पर मिला देगा-तुम्हारा दिल
रात-दिन सोचने से ही कुछ नहीं होगा हासिल
कर लो फैसला फिर ना वक्त मौका देगा-तुम्हारा दिल
कुछ कर गुजरने का है यूॅ॑ अगर हौंसला तुझमें
इरादा तुम्हारा सच्च में आसमाॅ॑ झुक देगा-तुम्हारा दिल
ठोकरें लगे जमाने की गर तुम हो जाओ तन्हाॅ॑
लौट आना तुमको ‘V9द’ गले लगा लेगा-तुम्हारा दिल

2 Likes · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
"मत भूलना"
Dr. Kishan tandon kranti
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
डॉ.सीमा अग्रवाल
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
तनहाई
तनहाई
Sanjay ' शून्य'
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
■ आज का सवाल...
■ आज का सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
"न टूटो न रुठो"
Yogendra Chaturwedi
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
ছায়া যুদ্ধ
ছায়া যুদ্ধ
Otteri Selvakumar
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
Shweta Soni
हे राम!धरा पर आ जाओ
हे राम!धरा पर आ जाओ
Mukta Rashmi
*सीता जी : छह दोहे*
*सीता जी : छह दोहे*
Ravi Prakash
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
Loading...