Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

तुमसे मैं एक बात कहूँ

तुमसे मैं एक बात कहूँ, बुरा अगर नहीं माने तू।
मेरे इस दिल को पसंद है, इस जहां में एक सिर्फ तू।।
तुमसे एक बात कहूँ —————————-।।

यह तेरा ही असर है, हमको यह खबर भी नहीं।
इस जहां में क्या हो रहा है, आता नजर भी नहीं।।
यकीन इस बात का कर तू , याद सिर्फ आती है तू।
तुमसे मैं एक बात कहूँ ————————-।।

यह भी सच है मुझको, तुमसे कभी थी नफरत।
तेरी कुछ बातें सुनकर, देखकर तेरी कुछ हरकत।।
फिर भी यह गनीमत है, मेरी मोहब्बत है सिर्फ़ तू।
तुमसे मैं एक बात कहूँ ————————-।।

पीने लगा हूँ शराब मैं, बदल गया हूँ क्यों इतना।
मैं दीवाना हूँ तेरा, सिर्फ़ तू ही है मेरा सपना।।
देख मेरा तू यह लहू , मेरी धड़कन है सिर्फ़ तू।
तुमसे मैं एक बात कहूँ ———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
यादें
यादें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
तमाशबीन जवानी
तमाशबीन जवानी
Shekhar Chandra Mitra
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
नारी नारायणी
नारी नारायणी
Sandeep Pande
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
Ram Krishan Rastogi
लोगों के रिश्मतों में अक्सर
लोगों के रिश्मतों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता
Jogendar singh
आसमां से आई
आसमां से आई
Punam Pande
पंछी
पंछी
sushil sarna
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
शेखर सिंह
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
आदमी
आदमी
अखिलेश 'अखिल'
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
पूर्वार्थ
"ज्वाला
भरत कुमार सोलंकी
*पापा (बाल कविता)*
*पापा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...