Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2023 · 1 min read

तुमसे बेहद प्यार करता हूँ

तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
मगर कुछ इस तरह
कि तुम्हें पता ना चले
एक दर्द है बड़ी शिद्दत से
जो पालता हूँ मैं
फ़िर भी
कभी जो भूले भटके
तुम पूछ बैठो , “कैसे हो?”
तो मैं बस कह दूँगा
“सब ठीक ही है”

ऐसा नहीं
कि मैं देखता ही नहीं तुमको
बस अब मैं
चाँद, सितारों में ढूंढता हूँ तुम को
बात महज़ इतनी ही तो है
इस बेमतलब सी दुनिया में
मुझे आज भी ख़ुद से तुम्हारी
गुफ़्तगू करना अच्छा लगता है

अच्छा लगने की पूरी फ़ितरत को
अहसासों और लफ्जों में
बुनता हूँ, और
परोस देता हूँ सबको, तुम को भी
बस तुम्हारा जवाब नहीं माँगता
क्योँ कि अहसासों के बदले
तुम से ज़वाब की उम्मीद करना
तिजारत सा लगता है मुझ को
और, तुम से ये नहीं चाहता मैं

शबनम से भीगी हुई सर्द रात में
देर तक जागते हुए अब भी
कभी कभी सोचता हूँ मैं
तुम खुले बालों में
ज्यादा खूबसूरत लगती हो.
या गेसुओं को समेटकर
जूड़ा बना लो तो,
एक खूबसूरत एहसास है न..
पर, बस ये सब ख़ुद ही सोच लेता हूँ मैं
तुम से ज़िक्र नहीं करता अब

दुनियाँ की जद्दोजहद में
मसरूफ होता हुआ भी
कभी-कभी अनायास सोचने लगता हूँ
कैसे झुमके में ज्यादा अच्छी
दिखाई दोगी तुम..
पर तुम से नहीं पूछता मैं
बस, ऐसे ही कुछ बेनूर सोचों में
गुजार लेता हूँ दिन, हर दिन.

हिमांशु कुलश्रेष्ठ

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
मनमर्जी की जिंदगी,
मनमर्जी की जिंदगी,
sushil sarna
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
2766. *पूर्णिका*
2766. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मनकहताआगेचल*
*मनकहताआगेचल*
Dr. Priya Gupta
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
दौलत -दौलत ना करें (प्यासा के कुंडलियां)
Vijay kumar Pandey
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
गुरु सर्व ज्ञानो का खजाना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चिंतन करत मन भाग्य का
चिंतन करत मन भाग्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
श्रीकृष्ण शुक्ल
माँ बाप बिना जीवन
माँ बाप बिना जीवन
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
तपोवन है जीवन
तपोवन है जीवन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कोशिशें करके देख लो,शायद
कोशिशें करके देख लो,शायद
Shweta Soni
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
"जीवन की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
बेहद कष्टप्रद होता है किसी को बरसों-बरस अपना मानने के बाद भी
बेहद कष्टप्रद होता है किसी को बरसों-बरस अपना मानने के बाद भी
*प्रणय प्रभात*
"बेज़ारे-तग़ाफ़ुल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
Swati
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
Manisha Manjari
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
शेखर सिंह
Loading...