Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-80💐

यह सब गीत हैं,सब पूरे होंगे।देखना सब पूरे होंगे।

तुमसे कोई बात छिपाई कब थी?
फूल से ख़ुश्बू कब तक छिपेगी?

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जज्बात
जज्बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
वो हमें भी तो
वो हमें भी तो
Dr fauzia Naseem shad
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
Dr MusafiR BaithA
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-209💐
💐प्रेम कौतुक-209💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
संस्मरण/*टैगोर शिशु निकेतन (टैगोर स्मार्ट प्ले एंड प्रीस्कूल)*
संस्मरण/*टैगोर शिशु निकेतन (टैगोर स्मार्ट प्ले एंड प्रीस्कूल)*
Ravi Prakash
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
■ घिसे-पिटे रिकॉर्ड...
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव
कुछ लोग तुम्हारे हैं यहाँ और कुछ लोग हमारे हैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
कान में रुई डाले
कान में रुई डाले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...