Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

” तुझे भुला कर देख लिया है… “

तू ही तू साँसों का धागा,
आजमा कर देख लिया है….!
बिखर चुके हैं मनके मनके,
तुझे भुला कर देख लिया है..!!

भूख नहीं मिटती है तुझसे,
मिलने बातें करने की…,
सब कहते हैं ग़म खा यारा,
ग़म भी खा कर देख लिया है…!!

क्या जादू है तुझमें तेरी,
यादों की मदहोशी में…..,
होश में भी नहीं होश है रहते,
होश में आ कर देख लिया है…!!

कहीं नहीं है सुकून तुझसा,
राहतें इश़्क इबादत जैसी…,
मन्दिर मस्ज़िद गुरूद्वारे क्या,
च़र्च भी जा कर देख लिया है…!!

जितना मिटाऊँ गहराते हैं,
दिल पे तेरे कदमों के निशां…,
यारा तेरी अमिट छाप को,
खूब मिटा कर देख लिया है…!!

—दयाल योगी?

1 Like · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
मन में सदैव अपने
मन में सदैव अपने
Dr fauzia Naseem shad
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
तेवरी में रागात्मक विस्तार +रमेशराज
कवि रमेशराज
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
अब नहीं दिल धड़कता है उस तरह से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
श्याम सिंह बिष्ट
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
Shekhar Chandra Mitra
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
ज़रा सी बात पे तू भी अकड़ के बैठ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण  कटार  धरो माँ।
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण कटार धरो माँ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
💐प्रेम कौतुक-199💐
💐प्रेम कौतुक-199💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
*जनता के कब पास है, दो हजार का नोट* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ बिल्कुल ताज़ा...
■ बिल्कुल ताज़ा...
*Author प्रणय प्रभात*
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
Loading...