Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2018 · 1 min read

तुझको जीवन से जाने न दूंगा कभी | मोहित नेगी मुंतज़िर

तुझको जीवन से जाने न दूंगा कभी
हाथ फैला न ख़ैरात लूंगा कभी।

मेरी हसरत है ऊंचाई दूंगा तुझे
ज़ीस्त में कुछ अगर कर सकूँगा कभी।

हम ज़बां पा के जो बात कह ना सके
उसको कह जाता है कोई गूंगा कभी।

मेरे तेवर से पहचान लोगे मुझे
अपने तेवर बदल ना सकूँगा कभी।

टालता है यूँ घर चलने की बात वो
अब नहीं बाद में घर चलूंगा कभी।

© मोहित नेगी मुंतज़िर

249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
उन्हें क्या सज़ा मिली है, जो गुनाह कर रहे हैं
Shweta Soni
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
Ravi Prakash
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
Neelam Sharma
मानसिक विकलांगता
मानसिक विकलांगता
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
मुक्तक
मुक्तक
Sonam Puneet Dubey
"खिलाफत"
Dr. Kishan tandon kranti
आंदोलन की जरूरत क्यों है
आंदोलन की जरूरत क्यों है
नेताम आर सी
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
प्रकाश
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
कवि रमेशराज
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
स्त्रीत्व समग्रता की निशानी है।
Manisha Manjari
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
जबसे हम चार पैसे कमाने लगे हैं
जबसे हम चार पैसे कमाने लगे हैं
नूरफातिमा खातून नूरी
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
gurudeenverma198
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
नशे की दुकान अब कहां ढूंढने जा रहे हो साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्थिरप्रज्ञ
स्थिरप्रज्ञ
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
Loading...