Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

तुकबन्दी को यार छंद, ग़ज़ल कहता हूँ

बात कड़वी है मगर साफ़ सरल कहता हूँ !
तुकबन्दी को यार छंद, ग़ज़ल कहता हूँ !!

जब वो आते है मुस्कुराते हुये घर की तरफ़,
मै अपने झोपड़ी को ताजमहल कहता हूँ !!

काम आयेगी नहीं स्वर्ग की परियाँ मेरे,
जीवन संगिनी को चाँद, कमल कहता हूँ !!

मोटी हो जायेगी सच खाके तू पिज्जा बर्गर,
चाँद को छत पे सुबह शाम टहल कहता हूँ !!

अमर होना नहीं है जुगनू को अमृत पीकर,
जानता हूँ मगर अमृत को गरल कहता हूँ !

248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
हमें सूरज की तरह चमकना है, सब लोगों के दिलों में रहना है,
DrLakshman Jha Parimal
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
बिगड़ता यहां परिवार देखिए........
SATPAL CHAUHAN
दिखावा
दिखावा
Swami Ganganiya
💐प्रेम कौतुक-197💐
💐प्रेम कौतुक-197💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*Author प्रणय प्रभात*
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
Lines of day
Lines of day
Sampada
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
Friendship Day
Friendship Day
Tushar Jagawat
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
धनतेरस जुआ कदापि न खेलें
कवि रमेशराज
"पशु-पक्षियों की बोली"
Dr. Kishan tandon kranti
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिंदगी मुस्कुराती थी कभी, दरख़्तों की निगेहबानी में, और थाम लेता था वो हाथ मेरा, हर एक परेशानी में।
जिंदगी मुस्कुराती थी कभी, दरख़्तों की निगेहबानी में, और थाम लेता था वो हाथ मेरा, हर एक परेशानी में।
Manisha Manjari
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
*चैतन्य एक आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
पूर्वार्थ
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
परम भगवदभक्त 'प्रहलाद महाराज'
परम भगवदभक्त 'प्रहलाद महाराज'
Pravesh Shinde
ताजा समाचार है?
ताजा समाचार है?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...