Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2016 · 1 min read

तीज जैसा व्रत कठिन करती रही;

एक गीतिका देवी स्वरूप पतिव्रत धर्म पालन करनेवाली मातृशक्ति को समर्पित
*****************************
तीज जैसा व्रत कठिन करती रही;
भावना मन प्रेम की पलती रही।
उम्र उनकी मुझसे’ ज्यादा हो सदा ।
जप यही वो तीज में रटती रही ।।
कह रहे थे आऊंगा आये नहीं ।
दूरियां मुझको बहुत खलती रही ।
ये में’री बाली पिया ने दी मुझे ।
रोब सखियों को दिखा हंसती रही ।
डाल दे यमराज को चक्कर में’ जो ।
हैं यही वह नारियां डरती नहीं ।
आग में है कूदकर जौहर किया ।
हैं अमर पीकर गरल मरती नहीं ।
छोड़कर माँ बाप को वो आ गयी ।
प्रेम में बनकर शहद घुलती रही ।
है वरण उसने किया जगदीश को ।
जानकी राधा कभी बनती रही ।
*******************************
वीर पटेल

182 Views
You may also like:
भूख
Varun Singh Gautam
जितना आवश्यक है बस उतना ही
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
काल के चक्रों ने भी, ऐसे यथार्थ दिखाए हैं।
Manisha Manjari
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
डी. के. निवातिया
बिंदु छंद "राम कृपा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
*अधिक धन पर न इतराओ, नहीं यह सुख-प्रदाता है (हिंदी...
Ravi Prakash
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
कवि कृष्णचंद्र रोहणा की रचनाओं में सामाजिक न्याय एवं जाति...
डॉ. दीपक मेवाती
मेरे अल्फाज़...
Dhani
सफर साथ में कटता।
Taj Mohammad
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
पक्षी
Sushil chauhan
अंकित है जो सत्य शिला पर
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
स्वास्थ्य
Saraswati Bajpai
प्यार की बातें कर मेरे प्यारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज फिर गणतंत्र दिवस का
gurudeenverma198
■ खुला दावा
*Author प्रणय प्रभात*
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
जीवन आनंद
Shyam Sundar Subramanian
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
✍️मेरी माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
विपक्ष की राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
एक झलक
Er.Navaneet R Shandily
✍️आज जमी तो कल आसमाँ हूँ
'अशांत' शेखर
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
Loading...