Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

“तिलचट्टा”

“तिलचट्टा”
घर में जब दिख जाता तिलचट्टा,
गृहणियों का मन हो जाता खट्टा।
महाघुसपैठिये सा होता तिलचट्टा,
बता जाते सब सुरक्षा को धत्ता।
न जाने कहाँ से ट्रेनिंग पाया,
ये कमबख्त उल्लू का पट्ठा।

5 Likes · 2 Comments · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
उनसे कहना अभी मौत से डरा नहीं हूं मैं
Phool gufran
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
नाराज नहीं हूँ मैं   बेसाज नहीं हूँ मैं
नाराज नहीं हूँ मैं बेसाज नहीं हूँ मैं
Priya princess panwar
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
यादों के सहारे कट जाती है जिन्दगी,
Ram Krishan Rastogi
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
करना केवल यह रहा , बाँटो खूब शराब(हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
Umender kumar
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
Hitanshu singh
*लम्हा  प्यारा सा पल में  गुजर जाएगा*
*लम्हा प्यारा सा पल में गुजर जाएगा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक पते की बात
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"ईमानदारी"
Dr. Kishan tandon kranti
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
आकाश मेरे ऊपर
आकाश मेरे ऊपर
Shweta Soni
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
रिश्तों की बंदिशों में।
रिश्तों की बंदिशों में।
Taj Mohammad
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
जिन्हें ज़लील हो कर कुछ हासिल करने की चाहत होती है
*Author प्रणय प्रभात*
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
Loading...