Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

तिरंगा

है सबसे निराला तिरंगा हमारा
बहाता वतन के लिए प्रेम धारा

कहे केसरी शोर्य की है कहानी
तो रँग श्वेत सद्भाव की है निशानी
हरा रंग खुशहाली को है बताता
हमें चक्र भी न्याय का पथ दिखाता
भरे जोश जय हिंद का ख़ूब नारा
है सबसे निराला तिरंगा हमारा

सभी उन शहीदों को श्रद्धा नमन है
जिन्होंने तिरंगे का ओढ़ा कफ़न है
अमर हैं सदा वे अमर ही रहेंगे
न हम भूल बलिदान उनका सकेंगे
जिन्होंने वतन पर ये जीवन है वारा
है सबसे निराला तिरंगा हमारा

है भारत की माटी हमें जैसे चन्दन
इसे भाल पर रख करें माँ का वंदन
जरूरत पड़ी तो कटा सिर भी लेंगे
मगर इस तिरंगे को झुकने न देंगे
हमारे लिए जान से भी ये प्यारा
है सबसे निराला तिरंगा हमारा

10-08-2023
डॉ अर्चना गुप्ता

306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
*Author प्रणय प्रभात*
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
*तुम अगर साथ होते*
*तुम अगर साथ होते*
Shashi kala vyas
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
सबक
सबक
manjula chauhan
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
💐प्रेम कौतुक-232💐
💐प्रेम कौतुक-232💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
Ravi Prakash
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
Loading...