Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2022 · 1 min read

*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*

हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)
——————————–
हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता
(1)
विष की बेला गई आज, अमृत चहुॅं ओर बधाई
बढ़ा आत्मनिर्भर पथ पर, समृद्धि छटा नव छाई
नए दौर में नई मंजिलों, को छूकर मुस्काता
(2)
तीन रंग का यह झंडा, इसकी बलिदानी गाथा
इसकी शान बढ़ी तो ऊॅंचा, हुआ देश का माथा
अमर अनगिनत बलिदानों से, नवप्रभात यह लाता
(3)
सदा गान हृदयों में हम, जन गण मन का गाऍंगे
वंदनीय है भारत माता, सदियों दोहराऍंगे
कभी नहीं चिर आजादी का, टूटेगा फिर नाता
हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जग में उदाहरण
जग में उदाहरण
Dr fauzia Naseem shad
नदी किनारे
नदी किनारे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आसमान पर बादल छाए हैं
आसमान पर बादल छाए हैं
Neeraj Agarwal
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
सिंह सोया हो या जागा हो,
सिंह सोया हो या जागा हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खंजर
खंजर
AJAY AMITABH SUMAN
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Srishty Bansal
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
ओह भिया क्या खाओगे ?
ओह भिया क्या खाओगे ?
Dr. Mahesh Kumawat
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
😢न्याय का हथौड़ा😢
😢न्याय का हथौड़ा😢
*Author प्रणय प्रभात*
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
तन को कष्ट न दीजिए, दाम्पत्य अनमोल।
जगदीश शर्मा सहज
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Sangeeta Sangeeta
"पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
Loading...