Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2022 · 1 min read

तिरंगा मन में कैसे फहराओगे ?

हर घर में गणतंत्र दिवस पर,
तिरंगा तो लहरा दोगे।
मगर हर दिल में देशभक्ति ,
तुम कैसे जगाओगे ?
आज के आधुनिक युग में ,
जहां भावनाएं अपनों के ,
ही मरी हुई हैं।
वहां देश के लिए कैसे ,
प्रेम बढाओगे?
जयचंदों की फसल हो रही है जहां ,
हर रोज ,
वहां भगत सिंह ,सुखदेव और राजगुरु जैसे,
कमल के फूल कहां से लायेंगे,?
घर भर में तिरंगा फहरा दोगे ,
देशभक्ति / देशप्रेम दिलों में ,
कहां से लाओगे ?

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 542 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
2366.पूर्णिका
2366.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
आनंद
आनंद
RAKESH RAKESH
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
नहीं आये कभी ऐसे तूफान
नहीं आये कभी ऐसे तूफान
gurudeenverma198
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
DrLakshman Jha Parimal
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
अफ़सोस न करो
अफ़सोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी
रेलगाड़ी
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
चमत्कार
चमत्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
Anil "Aadarsh"
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मोरे मन-मंदिर....।
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
*धन्य तुम मॉं, सिंह पर रहती सदैव सवार हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...