Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

“ताले चाबी सा रखो,

“ताले चाबी सा रखो,
पूर्ण समर्पण प्यार।
भले टूटना ही पड़े,
मत बदलो व्यवहार।।”

सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर ‘

289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
'हक़' और हाकिम
'हक़' और हाकिम
आनन्द मिश्र
आभरण
आभरण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
डी. के. निवातिया
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
Lines of day
Lines of day
Sampada
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
आज की प्रस्तुति: भाग 3
आज की प्रस्तुति: भाग 3
Rajeev Dutta
"कलम और तलवार"
Dr. Kishan tandon kranti
अब सुनता कौन है
अब सुनता कौन है
जगदीश लववंशी
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
surenderpal vaidya
भौतिकता
भौतिकता
लक्ष्मी सिंह
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...