Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

ताजमहल

दरिया के किनारे,
एक मकबरा तामीर हुआ,
जिसे कहते हैं भई वाह
क्या खूब ताज महल।

तमाम बीबियों के हरम का
इकला शौहर,
ये कैसी मुहब्बत थी
बादशाह शाहजहाँ तेरी।

शिकार हवश की हुई थी
बेचारी बेगम,
हुए पैदा मुमताज से
दर्जन से ज्यादा बच्चे।

दूजी खातून का
ख्याल तक न करते थे।
एक श्री राम जिसकी
बीबी थी महज सीता।

हुआ अच्छा कि मजनूँ
शहंशाह न था वरना,
दफन हो जाता उसका प्यार
एक ताज महल बनकर।

बड़े अदब से मेरा सलाम
उस दीवाने को,
फना हुआ जो मुहब्बत में
लैला लैला कहते।

बात तो तब है
जीते जी दिल से प्यार करो।
हजार ताज महल
कब्र पर किस काम के हैं।

दिल में था प्यार अगर
खुद भी कुछ कुर्बानी देते,
किया बर्बाद फ़क़त
रियासत के लगान का पैसा।

कितना इनाम देते हैं
खुश होकर के लोग,
हाथ ही काट लिये कारीगर का
ताज महल के बदले।

जीते जी महल बनाते
वह भी तन्ख्वाह से,
अगर देना था
मुमताज को निशानी कोई।

भला मुमताज के किस काम का
ये नायाब तोहफा,
हुआ तामीर उसकी कब्र पर
जो ये ताजमहल।

Language: Hindi
278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
Ravi Prakash
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
"सेहत का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं बूढ़ा नहीं
मैं बूढ़ा नहीं
Dr. Rajeev Jain
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
संवेदनायें
संवेदनायें
Dr.Pratibha Prakash
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
Anil chobisa
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उत्कर्ष
उत्कर्ष
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
अगर हो दिल में प्रीत तो,
अगर हो दिल में प्रीत तो,
Priya princess panwar
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बर्दाश्त की हद
बर्दाश्त की हद
Shekhar Chandra Mitra
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
Shyam Sundar Subramanian
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
परिवार के एक सदस्य की मौत के दिन जश्न के उन्माद में डूबे इंस
परिवार के एक सदस्य की मौत के दिन जश्न के उन्माद में डूबे इंस
*Author प्रणय प्रभात*
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
प्राण vs प्रण
प्राण vs प्रण
Rj Anand Prajapati
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
gurudeenverma198
Loading...