Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

तसव्वुर

मसर्रत की ऐसी हवा चली है ,
माहौल की सरगर्मियां लुत्फ़-अंदोज़ हो रहीं हैं ,

लगता है अभी-अभी
किसी ने मुझे प्यार से छूआ है ,
ज़ेहन में अजब सी
मदहोशी का एहसास हो रहा है ,

हर सम्त फ़जा भी
खुश़गवार हो रही है ,
रोशन शुआओं की
एक नई सुबह हो रही है ,

यादों का कारवां रफ़्ता-रफ़्ता पीछे
छूटता जा रहा है ,
वक्त के इस्तिक़बाल में लम्हों का
जुलूस जा रहा है ,

आरज़ू के उफ़क से उम्मीद-ए- ज़िदगी का
आग़ाज़ हो रहा है,
इक बुलंद मुस्तक़बिल रहने का
तसव्वुर हो रहा है ।

1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
सच तो तस्वीर,
सच तो तस्वीर,
Neeraj Agarwal
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
2702.*पूर्णिका*
2702.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप  की  मुख्तसिर  सी  मुहब्बत
आप की मुख्तसिर सी मुहब्बत
shabina. Naaz
बड़ी अजब है जिंदगी,
बड़ी अजब है जिंदगी,
sushil sarna
कौन सोचता बोलो तुम ही...
कौन सोचता बोलो तुम ही...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
ऐ जिंदगी....
ऐ जिंदगी....
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चिढ़ है उन्हें
चिढ़ है उन्हें
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-332💐
💐प्रेम कौतुक-332💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बड़ी मुश्किल से आया है अकेले चलने का हुनर
बड़ी मुश्किल से आया है अकेले चलने का हुनर
कवि दीपक बवेजा
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
डाल-डाल पर फल निकलेगा
डाल-डाल पर फल निकलेगा
Anil Mishra Prahari
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
यह कैसा पागलपन?
यह कैसा पागलपन?
Dr. Kishan tandon kranti
चुनिंदा अशआर
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...