Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2022 · 1 min read

तलाश

इस अनजान शहर में किसी अपने
की तलाश में आया हूं ,
इस रहगुज़र की मंज़िल में किसी हमदर्द के मिलने की आस लिए आया हूं ,
अब तक भटकता रहा मंज़िल- मंज़िल,
दर्दे दिल को ना हुआ सुकुँ हासिल ,
दिन गुज़रता है हालातों के थपेड़े
सहते- सहते ,
रात कटती है चश्म-ए- पुर-आब सपने
संजोते- संजोते ,
एहसास -ए -तन्हाई अब काटती सी
हुई लगती है ,
किसी हम-नफ़स हम-नवा बग़ैर ये ज़िंदगी
अधूरी सी लगती है,

Language: Hindi
2 Likes · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
ज़िंदगी भी समझ में
ज़िंदगी भी समझ में
Dr fauzia Naseem shad
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
2906.*पूर्णिका*
2906.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सिंह की सवारी (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद)*
*सिंह की सवारी (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
खुद को मूर्ख बनाते हैं हम
खुद को मूर्ख बनाते हैं हम
Surinder blackpen
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"कारवाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आँसू
आँसू
जगदीश लववंशी
Yash Mehra
Yash Mehra
Yash mehra
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
आज भी औरत जलती है
आज भी औरत जलती है
Shekhar Chandra Mitra
Loading...