Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-282💐

तलाश जारी रहेगी उनकी हर इक मुक़ाम तक,
कोई शाम आख़िरी नहीं,ज़िंदगी की शाम तक।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
46 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
😊चुनावी साल😊
😊चुनावी साल😊
*Author प्रणय प्रभात*
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
नौकरी
नौकरी
Buddha Prakash
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
कैसा समाज
कैसा समाज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
हे! दिनकर
हे! दिनकर
पंकज कुमार कर्ण
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
चल रे घोड़े चल
चल रे घोड़े चल
Dr. Kishan tandon kranti
एक काफ़िर की दुआ
एक काफ़िर की दुआ
Shekhar Chandra Mitra
अवधी दोहा
अवधी दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
नंदक वन में
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
💐अज्ञात के प्रति-23💐
💐अज्ञात के प्रति-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Tajposhi ki rasam  ho rhi hai
Tajposhi ki rasam ho rhi hai
Sakshi Tripathi
शंगोल
शंगोल
Bodhisatva kastooriya
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
बहुत सस्ती दर से कीमत लगाई उसने
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भरमाभुत
भरमाभुत
Vijay kannauje
*चलो देखने को चलते हैं, नेताओं की होली (हास्य गीत)*
*चलो देखने को चलते हैं, नेताओं की होली (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
Anju ( Ojhal )
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
Loading...