Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

तरुण

तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
शरम से ऑंखें झुकाता है प्रलय।
जाग, सद्नायक बने औ बना दे।
राष्ट्र-तम पर अरुण-आभा का निलय।

जाग जाएं जन,तभी बलवान बन।
राष्ट्र छूले व्योम विकसित भानु-सम।
धरा तब आनंदमय अति हर्ष है।
प्रेममय दिखता तरुण जब ज्ञान बन।

तरुण जाग जाए स्वराष्ट्र का,तब ही तो सचमुच विकास है।
जन जन के बंधुत्वरूप का उच्चभाल उर का प्रकाश है।
उच्च सजगता का सु वास सह दिव्य प्रेम की सबल साधना,
के बल से ही विश्वभूमि पर, आर्य देश ज्ञानी अकाश है।

पं बृजेश कुमार नायक

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इस सलीके से तू ज़ुल्फ़ें सवारें मेरी,
इस सलीके से तू ज़ुल्फ़ें सवारें मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
***
*** " हमारी इसरो शक्ति...! " ***
VEDANTA PATEL
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
"जीवन का निचोड़"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
ज़िन्दगी में किसी बड़ी उपलब्धि प्राप्त करने के लिए
ज़िन्दगी में किसी बड़ी उपलब्धि प्राप्त करने के लिए
Paras Nath Jha
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
युद्ध के विरुद्ध कुंडलिया
युद्ध के विरुद्ध कुंडलिया
Ravi Prakash
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Betulwala
#आज_का_संदेश
#आज_का_संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
2811. *पूर्णिका*
2811. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रौशनी अकूत अंदर,
रौशनी अकूत अंदर,
Satish Srijan
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
सागर-मंथन की तरह, मथो स्वयं को रोज
डॉ.सीमा अग्रवाल
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
द्रोपदी का चीरहरण करने पर भी निर्वस्त्र नहीं हुई, परंतु पूरे
Sanjay ' शून्य'
💐अज्ञात के प्रति-134💐
💐अज्ञात के प्रति-134💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
Loading...