Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 10, 2016 · 1 min read

तम से लड़ी है जिंदगी

मौत है निष्ठूर निर्मम तो कड़ी है जिंदगी
जो ख़ुशी ही बाँटती हो तो भली है जिंदगी

लोग जीने के लिए हर रोज मरते जा रहे
ये सही है तो कहो क्या अब यही है जिंदगी

दो निवालों के लिए दिनभर तपाया है बदन
या कि मानव व्यर्थ चाहत में तपी है जिंदगी

झूठ माया मोह रिश्ते सब सही लगते यहाँ
जाने कैसे चक्रव्यूहों में फँसी है जिंदगी

काठ का पलना कहीं तो खुद कहीं पर काठ है
है हँसी कोमल कहीं आँसू भरी है जिंदगी

चाँद भी रातों को रोशन कर चुका है तो कहो
किन उजालों के लिए तम से लड़ी है जिंदगी

आसमां के पार भी इक आसमां तैयार है
ख्वाब बुन लो तो चलो कहती रही है जिंदगी.

~ अशोक कुमार रक्ताले.

1 Like · 6 Comments · 222 Views
You may also like:
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
पिता
Ray's Gupta
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
तन्हाई
Alok Saxena
मुखौटा
Anamika Singh
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
भगत सिंह का प्यार था देश
Anamika Singh
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
गधा
Buddha Prakash
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
पिता का सपना
श्री रमण
Loading...