Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

तमन्ना आराम करने की औरो से ज्यादा

तमन्ना आराम करने की औरो से ज्यादा हम भी रखते हैं
सब से ज्यादा आराम फरमाने की इच्छा हम भी रखते हैं !!

यह पापी पेट जो लग गया आकर इस जिस्म के अंदर
वरना हजारों दिलों में अपने अरमान हम भी रखते हैं !!

न किसी से मिल सकते, न किसी के पास जा सकते
यह काम का बोझ ऐसा है, बस यहीं याद उनको रोज रखते हैं !!

इंसान बेचारा, काम के बोझ का मारा , कुछ कर नहीं सकता
चाहत को अपने, हर पल बस यूं ही यहाँ दबा कर है चलता !!

ऊपर वाले तूने, क्या सोच कर इंसान को बना कर भेजा धरती पर
वो पल पल यहाँ , काम कर कर के, ऐसे ही है बस मरता !!

यह भी वैसे तेरा रहम है, की हर इंसान को कुछ न कुछ काम दिया है
सब को मेहनत करने का, कुछ को आराम का बस काम दिया है !!

तेरी याद आती रहे, मेरा काम चलता रहे, दोस्तों का प्यार मिलता रहे
यही ख्वाइश बहुत है, “अजीत” को ,की रहमत का दरवाजा खुलता रहे !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
गीत
गीत
Shweta Soni
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
पूर्वार्थ
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*प्रणय प्रभात*
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
ज़िंदगी इस क़दर
ज़िंदगी इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
3004.*पूर्णिका*
3004.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
2
2
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
VINOD CHAUHAN
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
बची रहे संवेदना...
बची रहे संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
झुर्री-झुर्री पर लिखा,
sushil sarna
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
आइये - ज़रा कल की बात करें
आइये - ज़रा कल की बात करें
Atul "Krishn"
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
शेखर सिंह
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...