Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 2 min read

“तब तुम क्या करती”

सुनो मेरे कुछ सवाल है,
जवाब नहीं चाहता हूँ तुमसे, हो सके तो बस ख़ुद को जवाब दे देना,
मैं अगर तुम्हारे जैसा करता तब तुम क्या करती?
मैं तुम्हारे सामने किसी और का हाथ थाम चले जाता तब तुम क्या करती?
वो प्यार में जो कसमें मैंने तुम्हारे लिए खाई थी, आज वही कसमें किसी और के लिए खाता तब तुम क्या करती?
रात-रात भर जग के जो तूमसे बातें करता था आज किसी और से साथ करता तब तुम क्या करती?
वो दो❤️❤️ दिल वाला स्टेटस तुम्हारे लिए लगता था, अब वही स्टेटस किसी और के लिए लगा के उसको दो पल का सुकून बता के किसी और के साथ रात बिताने जाता तब तुम क्या करती?
जो कवितायें जो नज़्में मैं कभी तुम्हारे लिए लिखा करता था आज किसी और के लिए लिखता तब तुम क्या करती?
जो कभी तुम्हारा हक़ था मुझपे आज किसी और का हक़ होता तब तुम क्या करती?
मैं किसी गैर के साथ बिस्तर में होता वो अपनी उंगलियों से मेरी नंगी पीठ को सहला रहा होता ये सोच कर जब-जब तुम पागल सी हो जाती तब तुम क्या करती?
दिल जलता जब और ख्यालों ने तुम्हें घेरा होता , चीख़ने का मन करता ख़ुद से ख़ुद ही में और आँखों से आँसू बह रहे होते तब तुम क्या करती?
नींद के लिए भी दावा का सहारा लेना पड़ता जब और फ़िर मुझे सपने में देख के अचानक नींद से जाग उठती और बेचैनी से बदन टूटने लगता तब तुम क्या करती?
मेरे से बात करने का मन जब-जब करता और मैंने तुम्हें ब्लॉक किया होता तब तुम क्या करती?
दिल में दर्द भरा होता सुनने वाला कोई ना होता तब तुम क्या करती?
इन सवालों के जवाब हो सके तो कभी ख़ुद को दे देना और बताना ख़ुद को तब तुम क्या करती?
-लोहित टम्टा

81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3011.*पूर्णिका*
3011.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
कहने का मौका तो दिया था तुने मगर
Swami Ganganiya
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कबीर: एक नाकाम पैगम्बर
कबीर: एक नाकाम पैगम्बर
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी के सारे पृष्ठ
ज़िंदगी के सारे पृष्ठ
Ranjana Verma
तो मेरे साथ चलो।
तो मेरे साथ चलो।
Manisha Manjari
" चले आना "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*शराब का पहला दिन (कहानी)*
*शराब का पहला दिन (कहानी)*
Ravi Prakash
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
शिद्धतों से ही मिलता है रोशनी का सबब्
कवि दीपक बवेजा
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
■ काम की बात
■ काम की बात
*Author प्रणय प्रभात*
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
पिछली सदी का शख्स
पिछली सदी का शख्स
Satish Srijan
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
!! गुजर जायेंगे दुःख के पल !!
जगदीश लववंशी
एमर्जेंसी ड्यूटी
एमर्जेंसी ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
Loading...