Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

तब जानोगे

कितना प्यार किया है तुमसे,
जिस दिन बिछड़ोगे, जानोगे।

थोड़ा-थोड़ा करके खुद को, सौंप दिया है पूरा तुमको
तोड़ो, जोड़ो या बिखरा दो, इससे क्या लेना है हमको।

सहज मिलन है, शुक्र खुदा का
नहीं मिलेंगे तब मानोगे।
जिस दिन बिछड़ोगे, जानोगे।।

थोड़ा तोलमोल सीखो तुम, शब्दों के खंजर होते हैं।
बार बार दोहराने से क्या, गम के कम मंज़र होते हैं।।

जिस दिन हम दुनिया छोड़ेंगे,
किस पर बंदूकें, तानोगे।

जो तुमसे पाया जीवन में, वह तो सत्कर्मों का फल है।
नहीं दिखाते, पर बिछुड़न से, इन आँखों से बहता जल है।

हर गलती की क्षमा मिले अब
क्षमा किया तुम कब ठानोगे।
जिस दिन बिछड़ोगे, जानोगे।।

प्रेम के घर में तुम ही बोलो, नफरत कैसे रह सकती है।
क्षमा क्रोध के ताने बोलो, तो कितने दिन सह सकती है।

यह तो तुम पर यकीं मुझे तुम
गुड़ गोबर न संग सानोगे।
जिस दिन बिछड़ोगे, जानोगे।।

विजय बेशर्म
9424750038

Language: Hindi
1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
जीवन के किसी भी
जीवन के किसी भी
Dr fauzia Naseem shad
कैनवास
कैनवास
Mamta Rani
■ लीक से हट कर.....
■ लीक से हट कर.....
*Author प्रणय प्रभात*
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
मिष्ठी का प्यारा आम
मिष्ठी का प्यारा आम
Manu Vashistha
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-80💐
💐अज्ञात के प्रति-80💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उसकी गली तक
उसकी गली तक
Vishal babu (vishu)
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
प्यार है तो सब है
प्यार है तो सब है
Shekhar Chandra Mitra
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
श्रृंगार
श्रृंगार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
माना के तू बेमिसाल है
माना के तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
बाढ़
बाढ़
Dr.Pratibha Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
Loading...