Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

तन्हां तन्हां …

******

मैं हूँ तन्हाँ – तन्हाँ
टूटा – टूटा – सा
पत्ता शाख का यहाँ
ए काश ! कि मैं
तेरे साथ होता वहाँ
मेरी गमे जुदाई
तू करता दूर
होता ना हालातों से
तू मजबूर
यूँ इश्क में
अश्कों का बहना
उस साफ़गोई का
क्या कहना !
ए खुदा ! मेरी रूह में
बसा बस तू है
सनम हरजाई !
तुझमें बसी मेरी रूह है
ज़र्रे ज़र्रे में मुहब्बत है !
हाँ मुहब्बत है !
बस तेरी ख़ुदाई से
हमें मुहब्बत है !!
…………अनिता जैन ‘ विपुला ‘

Language: Hindi
408 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
कोशिश
कोशिश
Anamika Singh
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#क़तआ_मुक्तक
#क़तआ_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
प्यार के लिए संघर्ष
प्यार के लिए संघर्ष
Shekhar Chandra Mitra
एक फूल....
एक फूल....
Awadhesh Kumar Singh
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
✍️तुम ख़ुद ✍️
✍️तुम ख़ुद ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*जहाँ पर घर नहीं बसते, वहीं पर वृद्ध-आश्रम हैं(मुक्तक)*
*जहाँ पर घर नहीं बसते, वहीं पर वृद्ध-आश्रम हैं(मुक्तक)*
Ravi Prakash
Wishing you a very happy,
Wishing you a very happy,
DrChandan Medatwal
कोशिशें करके देख लो,शायद
कोशिशें करके देख लो,शायद
Shweta Soni
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
पुकार सुन लो
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
'अशांत' शेखर
टूटा तो
टूटा तो
shabina. Naaz
यादों के गुलाब
यादों के गुलाब
Neeraj Agarwal
"अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे
कवि दीपक बवेजा
Shayri
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
आज का बचपन
आज का बचपन
Buddha Prakash
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
प्यार जैसा ही प्यारा होता है
Dr fauzia Naseem shad
पिनाका
पिनाका
Utkarsh Dubey “Kokil”
2382.पूर्णिका
2382.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...