Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

तन्हां तन्हां …

******

मैं हूँ तन्हाँ – तन्हाँ
टूटा – टूटा – सा
पत्ता शाख का यहाँ
ए काश ! कि मैं
तेरे साथ होता वहाँ
मेरी गमे जुदाई
तू करता दूर
होता ना हालातों से
तू मजबूर
यूँ इश्क में
अश्कों का बहना
उस साफ़गोई का
क्या कहना !
ए खुदा ! मेरी रूह में
बसा बस तू है
सनम हरजाई !
तुझमें बसी मेरी रूह है
ज़र्रे ज़र्रे में मुहब्बत है !
हाँ मुहब्बत है !
बस तेरी ख़ुदाई से
हमें मुहब्बत है !!
…………अनिता जैन ‘ विपुला ‘

Language: Hindi
500 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
लावनी
लावनी
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खत
खत
Punam Pande
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
नया साल
नया साल
Arvina
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उसके जैसा जमाने में कोई हो ही नहीं सकता।
उसके जैसा जमाने में कोई हो ही नहीं सकता।
pratibha Dwivedi urf muskan Sagar Madhya Pradesh
*नेता बूढ़े जब हुए (हास्य कुंडलिया)*
*नेता बूढ़े जब हुए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुम बिन
तुम बिन
Dinesh Kumar Gangwar
डोरी बाँधे  प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
डोरी बाँधे प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
Mahendra Narayan
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Madhu Shah
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
2590.पूर्णिका
2590.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मन
मन
Ajay Mishra
भावनात्मक निर्भरता
भावनात्मक निर्भरता
Davina Amar Thakral
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...