Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

तनहाई

क्यूँ समझती है तेरे बिन यहाँ तनहाई नही है।
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

कभी अपने आप से सवालात किया करता हूँ ।
कभी तेरी तसवीर से ये बात किया करता हूँ ।
है कौन सी वो दास्ताँ ,जो तुझे सुनाई नही है ।
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

मुरझाए दो फूल हैं ,खिलें तो कैसे खिलें ।
मै यहाँ हूँ तू वहाँ है मिले तो कैसे मिले ।
आँगन की इस धूप में तेरी परछाँई नही है ।
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

मेरे गाँव की वो बाग, जिसमें कोयल कोई गाती थी
आम का वो पेड जहाँ तू झूला झूलने आती थी ।
शहर में वो बाग और अमराई नही है
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

…….मुकेश पाण्डेय

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 442 Views
You may also like:
रूठे रूठे से हुजूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
चाहत
Lohit Tamta
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
जातियों का विनाश
Shekhar Chandra Mitra
तुम भी बढ़ो हम भी बड़े
कवि दीपक बवेजा
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
✍️अच्छे दिन✍️
'अशांत' शेखर
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
जाति दलदल या कुछ ओर
विनोद सिल्ला
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
यह दिल
Anamika Singh
सितारे बुलंद थे मेरे
shabina. Naaz
अब कहाँ उसको मेरी आदत हैं
Dr fauzia Naseem shad
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
अद्भुत सितारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ऐसा करने से पहले
gurudeenverma198
# पिता ...
Chinta netam " मन "
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
“ पागल -प्रेमी ”
DrLakshman Jha Parimal
🚩🚩कवि-परिचय(पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
महब्बत का यारो, यही है फ़साना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
*क्षितिज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...