Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

तनहाई

क्यूँ समझती है तेरे बिन यहाँ तनहाई नही है।
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

कभी अपने आप से सवालात किया करता हूँ ।
कभी तेरी तसवीर से ये बात किया करता हूँ ।
है कौन सी वो दास्ताँ ,जो तुझे सुनाई नही है ।
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

मुरझाए दो फूल हैं ,खिलें तो कैसे खिलें ।
मै यहाँ हूँ तू वहाँ है मिले तो कैसे मिले ।
आँगन की इस धूप में तेरी परछाँई नही है ।
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

मेरे गाँव की वो बाग, जिसमें कोयल कोई गाती थी
आम का वो पेड जहाँ तू झूला झूलने आती थी ।
शहर में वो बाग और अमराई नही है
बिस्तर तो है मखमल का, मगर चारपाई नही है ।

…….मुकेश पाण्डेय

Language: Hindi
1 Like · 612 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
Ravi Prakash
शांति दूत वह बुद्ध प्रतीक ।
शांति दूत वह बुद्ध प्रतीक ।
Buddha Prakash
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
Seema Verma
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/205. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हजारों  रंग  दुनिया  में
हजारों रंग दुनिया में
shabina. Naaz
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
मां
मां
Ankita Patel
"तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
तू है एक कविता जैसी
तू है एक कविता जैसी
Amit Pathak
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
Rj Anand Prajapati
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन में कोई भी फैसला लें
जीवन में कोई भी फैसला लें
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत ही सफलता
मेहनत ही सफलता
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
गंगा अवतरण
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
अहा! जीवन
अहा! जीवन
Punam Pande
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
जननी
जननी
Mamta Rani
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क मुकम्मल करके निकला
इश्क मुकम्मल करके निकला
कवि दीपक बवेजा
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Love
Love
Kanchan Khanna
Loading...