Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ

तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भी जाय और धर्म भी तथा परेशानी के साथ दामन में भी दाग लगे।

Paras Nath Jha

315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
*Author प्रणय प्रभात*
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/51.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों का बस्ता
रंगों का बस्ता
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*एक शेर*
*एक शेर*
Ravi Prakash
तोता और इंसान
तोता और इंसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
उस रिश्ते की उम्र लंबी होती है,
उस रिश्ते की उम्र लंबी होती है,
शेखर सिंह
माँ के लिए बेटियां
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चिन्ता
चिन्ता
Dr. Kishan tandon kranti
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Sometimes…
Sometimes…
पूर्वार्थ
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
दुष्यन्त 'बाबा'
ज़ख़्मों पे वक़्त का
ज़ख़्मों पे वक़्त का
Dr fauzia Naseem shad
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
वर्षों पहले लिखी चार पंक्तियां
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...