Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

तड़ाग के मुँह पर……समंदर की बात

तड़ाग के मुँह पर……समंदर की बात
मेरी हार पर कर गया कोई सिकंदर की बात
बात – बात में भी कोई बात ऐसी न हुई
जाग के सो गई फिर मेरे अंदर की बात
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जिसे पश्चिम बंगाल में
जिसे पश्चिम बंगाल में
*Author प्रणय प्रभात*
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
मन के मंदिर में
मन के मंदिर में
Divya Mishra
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
💐प्रेम कौतुक-463💐
💐प्रेम कौतुक-463💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
हिद्दत-ए-नज़र
हिद्दत-ए-नज़र
Shyam Sundar Subramanian
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
2531.पूर्णिका
2531.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
जिन्दगी में फैसले अपने दिमाग़ से लेने चाहिए न कि दूसरों से पू
जिन्दगी में फैसले अपने दिमाग़ से लेने चाहिए न कि दूसरों से पू
अभिनव अदम्य
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
सुदूर गाँव मे बैठा कोई बुजुर्ग व्यक्ति, और उसका परिवार जो खे
Shyam Pandey
चलो आज खुद को आजमाते हैं
चलो आज खुद को आजमाते हैं
कवि दीपक बवेजा
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
' जो मिलना है वह मिलना है '
' जो मिलना है वह मिलना है '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...