Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।

तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
रात न देती साथ तो, दिन जाता बेकार।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
2 Likes · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
कोरोना - इफेक्ट
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
Neeraj Mishra " नीर "
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
यादों की किताब पर खिताब
यादों की किताब पर खिताब
Mahender Singh
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
3215.*पूर्णिका*
3215.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शराबी
शराबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
Ravi Prakash
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
👌
👌
*Author प्रणय प्रभात*
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
महान क्रांतिवीरों को नमन
महान क्रांतिवीरों को नमन
जगदीश शर्मा सहज
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
Loading...