Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 6, 2016 · 1 min read

तकिया

खूबसूरत दुनियाँ में आने से पहले
माँ का गर्भ ही मेरा मात्र तकिया था
किसी शहनशाह के तख्तेताऊस सा
वो सर्वदा ऊँचा मुझे लगा करता था

स्मृतियाँ अस्तित्व की बुलबुलों बन
उठ सुंदर भूत में ले जाती है मुझको
जहाँ भूल मैं दुनियाँ की विद्रूपता को
चैन की नींद सोया करती थी रोज

खोल पलक रखा डग दुनियाँ में
अविरल तकियों को बदलती रही
कोख के तकिये में बेखटक सोयी
पा के कन्धे से लग कर मुस्कायी

कपड़े का तकिया मिला जब से
रंग बदलते हर पल जहाँ के देखे
सिरहाना कहूँ या तकिया दोनों ही
तब से आज तक मुझे न ये भाये

तकिया अच्छा लगता है बाहों का
वो ही सिरहाना मुझे बस भाता
दुनियाँदारी से दूर राहत दिलाता
हर पल वजूद का भास कराता

डॉ मधु त्रिवेदी

72 Likes · 242 Views
You may also like:
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
Green Trees
Buddha Prakash
एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
"अशांत" शेखर
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
"दोस्त"
Lohit Tamta
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
लोभ
AMRESH KUMAR VERMA
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
विसाले यार
Taj Mohammad
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
Loading...