Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।

जनम लेकर,खेल सह सद्भावना।
युवावस्था प्यार की संभावना।
बुढापे में ज्ञान आया,तन झुका।
ढ़ल गया सूरज बिना प्रस्तावना।

पं बृजेश कुमार नायक

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
महादेव का भक्त हूँ
महादेव का भक्त हूँ
लक्ष्मी सिंह
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
रात के अंधेरों से सीखा हूं मैं ।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
gurudeenverma198
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अवसाद
अवसाद
Dr Parveen Thakur
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
समाजसेवा
समाजसेवा
Kanchan Khanna
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
धर्म को
धर्म को "उन्माद" नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
मस्ती के मौसम में आता, फागुन का त्योहार (हिंदी गजल/ गीतिका)
मस्ती के मौसम में आता, फागुन का त्योहार (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
भरत मिलाप
भरत मिलाप
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
दशावतार
दशावतार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नाव मेरी
नाव मेरी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
"किरायेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
2441.पूर्णिका
2441.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
Loading...