Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

ढलती हुई दीवार ।

ढलती हुई दीवार से पूछो, ज़िन्दगी का सही मतलब बताएगी,
उसकी ईंटों की एक-एक दरार, जाने कितने किस्से सुनाएगी।
बारिशों में भींगती थी, और धूप में जलती थी वो,
पर उसे कहाँ पता था, अपनों का ताप उसे इतना झुलसाएगी।
त्योहारों की ख़ुशी और, मातमों के दर्द को सहती थी वो,
पर उसे कहाँ पता था, स्वार्थ में लिपटे रिश्तों को देख वो इतना सहम जायेगी।
छतों पर गुजरती गर्मी की रातें, और गुलमोहर तले होती, प्यार की बातें सुनती थी वो,
पर उसे कहाँ पता था, बंद कमरों में गूंजती बंटवारे की साजिशें, उसे इतना स्तब्ध कराएंगी।
किलकारियों से गूंजते पालने, और लुका-छिपी की खिलखिलाहटों, में हंसती थी वो,
पर उसे कहाँ पता था, चौखटों पर बुजुर्गों के होते तिरस्कार, उसे इतना बिखरायेगी।
बारिशों में नाचती कागज़ की कश्तियाँ और माँ की गोद में लोरी की थपकियाँ, संग थिरकती थी वो,
पर उसे कहाँ पता था, माँ के आंसुओं को सुखाना, उसे इतना तड़पायेगी।
पक चुकी फसलें और नयी कोपलों को संजोती थी वो,
पर उसे कहाँ पता था, दुहराती हुई घटनाएं, उसे कर्म-चक्र समझा जाएंगी।

2 Likes · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
खो दोगे
खो दोगे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
वह
वह
Lalit Singh thakur
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
बिन बुलाए कभी जो ना जाता कही
कृष्णकांत गुर्जर
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
स्मृतिशेष मुकेश मानस : टैलेंटेड मगर अंडररेटेड दलित लेखक / MUSAFIR BAITHA 
Dr MusafiR BaithA
मार मुदई के रे... 2
मार मुदई के रे... 2
जय लगन कुमार हैप्पी
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
2433.पूर्णिका
2433.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
Lonely is just a word which can't make you so,
Lonely is just a word which can't make you so,
Sukoon
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पुष्प
पुष्प
Er. Sanjay Shrivastava
जाने के बाद .....लघु रचना
जाने के बाद .....लघु रचना
sushil sarna
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
भेड़चाल
भेड़चाल
Dr fauzia Naseem shad
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
Loading...