Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)

डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
————————————————–
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब
खाते भारत में सभी , मन से गहरे डूब
मन से गहरे डूब , दूर दक्षिण से आया
मोह रहा माधुर्य , ठेठ उत्तर को भाया
कहते रवि कविराय ,हर जगह गया परोसा
बालक वृद्ध जवान , हर्ष से खाते डोसा
—————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हर एक सांस सिर्फ़ तेरी यादें ताज़ा करती है,
हर एक सांस सिर्फ़ तेरी यादें ताज़ा करती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ममत्व की माँ
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
*माँ : 7 दोहे*
*माँ : 7 दोहे*
Ravi Prakash
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
हो....ली
हो....ली
Preeti Sharma Aseem
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
डिप्रेशन में आकर अपने जीवन में हार मानने वाले को एक बार इस प
डिप्रेशन में आकर अपने जीवन में हार मानने वाले को एक बार इस प
पूर्वार्थ
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो जो मुझको रुलाए बैठा है
वो जो मुझको रुलाए बैठा है
काजू निषाद
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
💐प्रेम कौतुक-563💐
💐प्रेम कौतुक-563💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वनिता
वनिता
Satish Srijan
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिनकर तुम शांत हो
दिनकर तुम शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
राही
राही
Neeraj Agarwal
आज कल !!
आज कल !!
Niharika Verma
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
■ क्यों ना उठे सवाल...?
■ क्यों ना उठे सवाल...?
*प्रणय प्रभात*
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
Loading...