Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2018 · 2 min read

चुनिंदा बाल कविताएँ (बाल कविता संग्रह)

चुनिंदा बाल कविताएँ
*****************
1.
हम
जब तक
मैं
मैं रहूंगा
और
तुम
तुम रहोगे
देश बंटता जाएगा।
जब
मैं
मैं न रहूंगा
और
तुम
तुम न रहोगे
हम मिलकर रहेंगे.
देश बढ़ता जाएगा
——
2.
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
सबसे प्यारा सबसे न्यारा.
वन्दे मातरम राष्ट्रगीत
जनगन राष्ट्रगान हमारा.
तीन रंगों का ध्वज हमारा
केसरिया, श्वेत और हरा.
केसरिया त्याग, श्वेत शान्ति का
समृद्धि का प्रतीक है हरा.
प्यारा भारत देश हमारा
सबसे प्यारा सबसे न्यारा.
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई
रहते यहाँ जैसे भाई-भाई.
विविध संस्कृतियों का सम्मिलन
दिखता जिनमें अजब अपनापन.
माँ के आँचल सामान
हम सबको है ये प्यारा.
इसकी धरा पर तो हमारा
तन-मन-धन न्योछावर सारा.
हरा-भरा है इसकी धरा
दिखे अद्भुत, अनुपम नजारा.
प्यारा भारत देश हमारा
सबसे प्यारा सबसे न्यारा.
——
3.
चलो स्कूल
खेलना कूदना
उधम मचाना
प्यारे बच्चों जाओ भूल।
घंटी बजी
बस्ता सजी
चलो चलो जी स्कूल।
पुस्तक उठाओ
पाठ पढ़ो
मिटे जिससे अज्ञानता का शूल।
——
4.
करो पढ़ाई
बीत गयी अब गर्मी छुट्टी
बज उठी टन-टन घंटी.
स्कूल के द्वार फिर खुले
चले पढ़ने बच्चे सभी.
कॉपी कालम और टिफिन
स्कूल बैग में हैं भरे सभी
ये ही देश के भविष्य हैं
जो अज्ञानता से न डरें कभी.
तुम भी मेरे प्यारे बच्चों
मन लगाकर खूब पढ़ना
आलस्य को त्याग कर
अपना भाग्य स्वयं गढ़ना.
——
5.
जुगनू
अंधेरे के खिलाफ
लड़ता है जुगनू।
संकट में न घबराने की
सीख देता है जुगनू।
घोर निराशा में भी
उम्मीद की किरण
जगाता है जुगनू।
——
6.
गर्मी आई.
सर्दी को देकर विदाई
लो भैया अब गर्मी आई.
मोज़े-मफलर, कोट रजाई
शाल-स्वेटर, छोड़ो भाई.
चाय-कॉफी की हो गई छुट्टी
आइसक्रीम-कुल्फी की आई बारी.
गर्मी के संग परीक्षा भी आई.
बच्चों करो तुम खूब पढ़ाई
पास हुए, तो मिलेगी बधाई
वरना होगी खूब खिंचाई.
सर्दी को देकर विदाई
लो भैया अब गर्मी आई.
——
7.
त्यौहार
त्यौहार हमारे बड़े निराले
राखी, रंग और दीपों वाले।
पोंगल, ईद, दीवाली, क्रिसमस, बैसाखी
मिलजुल कर मनाते हैं हम सभी।
शत्रुता मिटाकर मित्रता बढ़ाते
मिलजुल कर रहने का पाठ पढ़ाते।
त्यौहार जीवन में उल्लास भरता
तभी तो हमें इनका इंतजार रहता।
——
8.
मेहनत
सोचते रहने से
सोते रहने से
बैठे रहने से
गाल बजाने से
कुछ हासिल नहीं होता है।
जग हँसाई होती है।
समय बीत जाता है।
बाद में पछताना पड़ता है।
मेहनत करने से ही
कार्य सम्पन्न होता है।
लक्ष्मी घर आती है।
समाज में इज्जत मिलती है।
मानो मेरा कहना सभी
रोना-धोना छोड़ो अभी
करो तुम कुछ ऐसा काम
जग में हो जिससे नाम।
9.
सफलता
अब तक क्या किया
मत सोच उस पर
आगे क्या करना है
सोच जरूर उस पर
सफलता क्यों नहीं मिली
उन कारणों का पता कर
अगर सफलता पानी है
तो उन्हें दूर कर
जीवन एक संघर्ष है
हमें इसमें जीतना है
आलस्य को छोड़कर
निरंतर लक्ष्य की ओर
कदम बढाते जाना है.
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
विद्योचित लाईब्रेरियन
छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम
छ.ग.माध्यमिक शिक्षा मंडल परिसर
पेंशनबाड़ा, रायपुर (छ.ग.) पिन 492001
मोबाइल नंबर 09827914888, 07049590888, 09109131207

1 Comment · 558 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
रिश्ते-नाते स्वार्थ के,
रिश्ते-नाते स्वार्थ के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ अटपटी-चटपटी...
■ अटपटी-चटपटी...
*Author प्रणय प्रभात*
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
प्रकृति को जो समझे अपना
प्रकृति को जो समझे अपना
Buddha Prakash
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में वक्त
रिश्तों में वक्त
पूर्वार्थ
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
बात ! कुछ ऐसी हुई
बात ! कुछ ऐसी हुई
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
धरती का बेटा गया,
धरती का बेटा गया,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
न दिल किसी का दुखाना चाहिए
नूरफातिमा खातून नूरी
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
Loading...