Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

सपने देखने वाला सही मायने में संत ज्ञानी होता है
सपनों के बिना भी क्या कभी युग निर्माण होता है

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
होगा कोई ऐसा पागल
होगा कोई ऐसा पागल
gurudeenverma198
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
हमेशा के लिए कुछ भी नहीं है
Adha Deshwal
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2718.*पूर्णिका*
2718.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
केतकी का अंश
केतकी का अंश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
Ravi Prakash
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इतने दिनों के बाद
इतने दिनों के बाद
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हर वर्ष जला रहे हम रावण
हर वर्ष जला रहे हम रावण
Dr Manju Saini
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
पिनाक धनु को तोड़ कर,
पिनाक धनु को तोड़ कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
"मुश्किल है मिलना"
Dr. Kishan tandon kranti
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पुरुष का दर्द
पुरुष का दर्द
पूर्वार्थ
परवरिश
परवरिश
Shashi Mahajan
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ग़ज़ल–मेरा घराना ढूंढता है
ग़ज़ल–मेरा घराना ढूंढता है
पुष्पेन्द्र पांचाल
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
कमल खिल चुका है ,
कमल खिल चुका है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Loading...