Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त – शंका

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त – शंका – समाधान

शंका :- पूजा किसे कहते हैं ?
समाधान – किसी वस्तु का सम्मान कर , उससे यथायोग्य लाभ लेना ‘ पूजा ‘ है ।
शंका :- ईश्वर पूजा किसे कहते हैं ?
समा. – ईश्वर के उपदेशों का पालन कर ज्ञान व आनन्द लेना ।
‘ ईश्वर की पूजा ‘ या ‘ ईश्वरभक्ति ‘ करना कहलाती है ।
शंका :- ईश्वरभक्ति की क्या विधि है ?
समा. – ईश्वर के तुल्य अपने
गुण – कर्म – स्वभाव को बनाना ।
शंका :- ईश्वरभक्ति के क्या लाभ हैं ?
समा. – आत्मबल की प्राप्ति , पूर्ण सुख – शांति व ईश्वर की प्राप्ति ।

298 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
Swati
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
*Author प्रणय प्रभात*
जो भक्त महादेव का,
जो भक्त महादेव का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
कवि दीपक बवेजा
ज़िंदगी के वरक़
ज़िंदगी के वरक़
Dr fauzia Naseem shad
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कैसा समाज
कैसा समाज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
धोखे से मारा गद्दारों,
धोखे से मारा गद्दारों,
Satish Srijan
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
कृष्णकांत गुर्जर
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
पूर्वार्थ
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
विचारों की आंधी
विचारों की आंधी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
VEDANTA PATEL
साहस का सच
साहस का सच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चौपाई छंद में मान्य 16 मात्रा वाले दस छंद {सूक्ष्म अंतर से
चौपाई छंद में मान्य 16 मात्रा वाले दस छंद {सूक्ष्म अंतर से
Subhash Singhai
Loading...