Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

डीजल पेट्रोल का महत्व

डीजल पेट्रोल का महत्व

दिल्ली जाओ
मुम्बई जाओ
या जाओ कश्मीर,
सारे वाहन तभी चलेंगें
जब मिले इराक का नीर।

डीजल पेट्रोल न हो तो
सब वाहन बेकार,
इसके बल से चलती है
रेल जहाज बस कार।

खनिज तेल सीमित है जग में
समझ बूझ करो ‘यूज’,
वरना ठप हो जाये
सब परिवाहन हों ‘फ्यूज’।

Language: Hindi
324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*
*जाता देखा शीत तो, फागुन हुआ निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शेयर
शेयर
rekha mohan
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
वो आपको हमेशा अंधेरे में रखता है।
Rj Anand Prajapati
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता !
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
ਦਿਲ  ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ  ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
ਦਿਲ ਦੇ ਦਰਵਾਜੇ ਤੇ ਫਿਰ ਦੇ ਰਿਹਾ ਦਸਤਕ ਕੋਈ ।
Surinder blackpen
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
तुम्हारे भाव जरूर बड़े हुए है जनाब,
Umender kumar
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
"वो बचपन के गाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
धर्म-कर्म (भजन)
धर्म-कर्म (भजन)
Sandeep Pande
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
Not longing for prince who will give you taj after your death
Not longing for prince who will give you taj after your death
Ankita Patel
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
घना अंधेरा
घना अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
इजहार ए इश्क
इजहार ए इश्क
साहित्य गौरव
घर के किसी कोने में
घर के किसी कोने में
आकांक्षा राय
जाने बचपन
जाने बचपन
Punam Pande
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...