Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

डिजिटल भारत

रिश्ते-समाज से वो
उदासीन हो गया,
इंसान आज कल तो
एक मशीन बन गया।

मां जनम दे मशीन से,
सहे क्यों प्रसव पीड़ा।
बस यहीं से शुरू हुई,
मशीन की क्रीड़ा।

पलना बना मशीन का,
मशीन है वाकर।
खिलौने भी हैं मशीन के,
शिशु मुदित है पाकर।

घर में बने मशीन से,
सुबह शाम तक खाना।
पैदल का न रिवाज अब,
मशीन से है जाना।

पंखे जगह ए सी लगा,
होती न खट्ट पट्ट।
अब तो क्लास में लगे,
डिस्प्ले श्याम पट।

हो नौकरी मशीन से,
मनोरंजन है मशीन।
कवि गोष्ठी की वार्ता,
न नर्तकी हसीन।

सारे संकल्प का बना,
विकल्प मोबाइल।
रोबोट बन गया मनुज,
झूठी है इस्माइल।

हो पार्क मंदिर माल हो,
आफिस हो या हो घर।
मानव मगन है स्वयं में,
दूजों की न खबर।

मोबाइल जबसे ‘इन’ हुआ,
सारे हुए ‘आउट’।
स्टेटस सेल्फी में दिखे,
स्माइल में पाउट।

मोबाइल से सब काम हो,
सन्देश लेन देन।
अप्लाई हो सप्लाई हो,
हो लॉस अथवा गेन।

परिवार में हम दो हैं,
हमारे भी केवल दो।
चाचा बुआ मौसी,
मामा को हुआ ‘गो’।

प्रतिष्ठा पल लगे दाव पर,
हर एक की है शाख।
छोटे बड़े का अदब अब तो
रख गया है ताख।

ठहाके,चुहिलबाजी,गुम,
गुम भीनीं सी हंसी।
न चाहते हुए बने,
सृजन भी एक मशीं।

सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
ख्वाहिशों के समंदर में।
ख्वाहिशों के समंदर में।
Taj Mohammad
सिर्फ तुम्हारे खातिर
सिर्फ तुम्हारे खातिर
gurudeenverma198
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
3471🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
"जल"
Dr. Kishan tandon kranti
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
दो सीटें ऐसी होनी चाहिए, जहाँ से भाई-बहन दोनों निर्विरोध निर
दो सीटें ऐसी होनी चाहिए, जहाँ से भाई-बहन दोनों निर्विरोध निर
*Author प्रणय प्रभात*
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
तुम
तुम
हिमांशु Kulshrestha
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
रात का मायाजाल
रात का मायाजाल
Surinder blackpen
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जस गीत
जस गीत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*सर्वप्रिय मुकेश कुमार जी*
*सर्वप्रिय मुकेश कुमार जी*
Ravi Prakash
Loading...