Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 1 min read

डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,

डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
अक्सर डिग्रियां भी बेज़ान वस्तु की तरह
पड़ी रह जाती है जब तक आप कोई
एक बेहतरीन काम नहीं कर रहे होते है।

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
हमारा देश
हमारा देश
SHAMA PARVEEN
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
यूंही नहीं बनता जीवन में कोई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
ruby kumari
जीवन
जीवन
Monika Verma
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
हिंदू सनातन धर्म
हिंदू सनातन धर्म
विजय कुमार अग्रवाल
गौ माता...!!
गौ माता...!!
Ravi Betulwala
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*प्रणय प्रभात*
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
आयेगी मौत जब
आयेगी मौत जब
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज के बालगीत
रमेशराज के बालगीत
कवि रमेशराज
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Mishra " नीर "
ताशीर
ताशीर
Sanjay ' शून्य'
राम- नाम माहात्म्य
राम- नाम माहात्म्य
Dr. Upasana Pandey
नाक पर दोहे
नाक पर दोहे
Subhash Singhai
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
2990.*पूर्णिका*
2990.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
यदि आप नंगे है ,
यदि आप नंगे है ,
शेखर सिंह
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बात तो कद्र करने की है
बात तो कद्र करने की है
Surinder blackpen
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
Loading...